Oct 27, 2012

तेरी मुहब्बत में

हम तेरी मुहब्बत में दिल की दुनिया लुटा बैठे |
तुम मानो  या ना मानो सनम तुम को अपना बना बैठे ||

अपने मन के मंदिर में तेरा घर बना  बैठे  |
तुम मानो  या ना मनो सनम तुम को इस घर में बसा बैठे ||

आँखों में तेरी सूरत बसा बैठे , रोग ये दिल का लगा बैठे  |
तुम मानो  या न मानो सनम तुम को अपना बना बैठे ||

जी ना पाउँगा तुम से अलग हो के येसा रोग लगा  बैठे |
दुनिया छुट जाये  साथ ना छूटेगा ये इरादा बना बैठे ||

हम तेरी
मुहब्बत में दिल की दुनिया लुटा बैठे |
तुम मानो  या ना मानो सनम तुम को अपना बना बैठे ||

हम तेरी
मुहब्बत में दिल की दुनिया लुटा बैठे |
हम  तुम  से  दिल  लगा  बैठे, चैन सकून गवा  बैठे ||

कभी  दुनिया  से  डरते  थे  छुप  छुप  के  मिलते थे |
ये  पर्दा  भी  हम हटा  बैठे  तुम्हे  अपना  बना  बैठे ||

हम तेरी
मुहब्बत में दिल की दुनिया लुटा बैठे |
तुम मानो  या ना मानो सनम तुम को अपना बना बैठे ||




4 comments:

  1. तुम मानो या ना मानो सनम तुम को अपना बना बैठे....

    bdhai ...:))

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. हम तेरी मुहब्बत में दिल की दुनिया लुटा बैठे |
    तुम मानो या ना मानो सनम तुम को अपना बना बैठे ||

    wah bahut hee sundar

    ReplyDelete

हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!