Feb 10, 2011

तुम से मोहब्बत है

तेरी  चाहत  तेरी  जुस्तुजू  इस  दिल  में  है

मेरी  जान  मुझे  तुम  से  मोहब्बत  है


तेरा  वो  मुस्कुराना , शरमाके  पलकें  झुकाना

दबे  होंटों  से  फूलों  की  वो  सौगात  याद  है


फिर  लगी  किसकी  नज़र  तुम  हुये  दूर  मुझ  से

तेरी  आँखों  में  अश्क  बहते  जाना  याद  है


मेरी  कोई  खता  न  थी , न  तेरी  कोई  खता  थी

वो   बिछड़ता हुवा  लम्हा  वो  सिसकियाँ  याद  है


तू  लौट  आएगी  एक  दिन  मुझे  है  इतना  यकीन

आज  भी  इन  आँखों  में  तेरा  इंतज़ार  है 

6 comments:

  1. बहुत ही सुंदर .... एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया ...

    ReplyDelete
  2. कमाल की प्रस्तुति ....जितनी तारीफ़ करो मुझे तो कम ही लगेगी

    ReplyDelete
  3. हर लम्हे को आपने खुबसुरती से शब्दों मे पिरोया है। आभार।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों के साथ बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  5. 'तू लौट आएगी एक दिन मुझे है इतना यकीन
    आज भी इन आँखों में तेरा इंतज़ार है'

    इस उम्र का तेज़ अहसास. यदि कोई लौट न रहा हो तो प्यारे क्या करोगे? चलना ही ज़िंदगी है, रुकना नहीं.

    ReplyDelete

हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!!